Saturday, June 21, 2014

A boy, a brush and a better world

It is a joy to watch children enacting a variety of roles on the stage with enthusiasm and spontaneity. The joy becomes even greater when we witness a production for children by children presented by Umang, founded in 1979 by the late Rekha Jain, the pioneer of children’s theatre movement in Delhi. A participant in her youth in the cultural renaissance heralded by the Indian People’s Theatre Association, she was a total theatre artist endowed with a humanistic worldview. It is no wonder if Umang’s annual theatre workshop during summer culminating in a colourful show becomes a major cultural event in the Capital. Its latest production, “Anokhi Koochi”, was presented at Shri Ram Centre this past week is in tune with the brilliant legacy bequeathed by Rekha Jain who died in 2010.
Written, designed and directed by Rekha Jain as “Malyang Ki Koochi” in 1999, it is based on a Chinese folktale. In its revised form the play is titled “Anokhi Koochi”. It takes the audience to a fantasy world. The hero of this world is a little boy, Malyang, who is forced to gather pieces of wood to make his living. Even in his humble position, he dreams of becoming a painter and is in search of a brush.
One day, while carrying a bundle of twigs, he sees some children playing, and they invite him to join them instead of carrying the load. Saying he can’t afford the luxury of sparing time to play, he asks them to help him get a brush so he can fulfil his ardent wish of painting. But the children express their inability to help him out.
Malyang continues his search. He comes across a painting school owned by a rich landlord. Standing some distance away from the school, he watches children of rich parents being admitted after paying a fabulous amount of money. He plucks up the courage to approach the owner and expresses his desire to join the school.
His wish is disdainfully rejected because he has no money to pay his fees. Insulted and humiliated, Malyang wanders alone, aimlessly. Lo and behold, a divine figure appears before him with a golden brush. The figure hands him over the brush with the advice that he should use it to paint those things which serve the cause of humanity and never use it for selfish purposes.
This leads a new dawn of hope and jubilation; whatever he paints comes to life. He creates forests, birds and rivulets, a world of bliss for children.
The play is directed by Harish Verma who had the opportunity to work under the guidance of Rekha Jain for more than two decades. A many-faceted artist, he is a singer, dancer and a theatre teacher for children. In the production under review,
Verma’s fine artistry charmed the audience that consisted largely of children accompanied by their parents. The story is simple, straightforward and short. While retaining the simplicity of the narrative, the director has infused into it a new life, colour and lyrical beauty. Using a bare stage, the action flows uninterruptedly with children forming a variety of visuals of trees, peacocks and fairies frolicking in the water. He does not want to dazzle the audience by using stylised lighting effects. The focus remains on the child-performers. The colourful costumes add to the visual charm.
The production offers some light-hearted moments and ends with a message of the inevitability of the doom of the mighty, unjust and arrogant at the hands of an innocent child who brings happiness to the children without discriminating on the basis of class, creed or caste.
The moral is implicit in the dramatic action.
What makes this annual event of Umang significant in the world of children’s theatre in the Capital is the conferment of the Rekha Jain Bal Rang Samman to those who have contributed significantly to the growth of the children’s theatre movement in India.
This year the award was given to Barry John for his outstanding involvement in children’s theatre and his pioneering work in the field of theatre-in-education.
Apart from his contribution to the enrichment of children theatre, Barry has achieved eminence as a stage director and film actor. He is the recipient of several awards by prestigious cultural bodies like the Sangeet Natak Akademi, the Sahitya Kala Parishad, Delhi, and the Delhi Natya Sangh.
Courtesy : The Hindu

Wednesday, June 18, 2014

Summer Camp organised at Jammu by KALAPAARKHI

Jammu. 15TH June 2014. To culminate fifteen day Children’s Theatre cum dance workshop organized by KALAPAARKHI in collaboration with APNA PARIVAAR, an NGO engaged in the upliftment of downtrodden ,at  CHERUB’S DAY BOARDING SCHOOL, Greater Kailash, a short play “ DOODH MEIN CHUHA” written by  Anand parkash Jain and directed by Vikram Rajwaal was presented at K.L.Saigal Hall, Canal Road Jammu today on 15th June 2014.The play was followed by scintillating dance performances by the tiny scholars of the summer camp.

The programme started with the traditional lightening of the ceremonial lamp by the dignitaries in the presence of the Summer camp organizers Harkirt Jij and Vikram Rajwaal.
The play “ DOODH MEIN CHUHA” was presented in   which Mannat,Sonali, Akarshita, Navya, Nitish, Nikhil, Dilkhush and Manoj Yadav proved their acting mettle. The play is a satire on the modern political scenario set In a very hilarious situation. The audience applauded the efforts of the child actors and gave a standing ovation for their professional handling of the play.

The next item on the cultural menu was scintillating dance performances by the children. The child dancers enthralled the spectators by their well rehearsed and well choreographed dances. The dances were choreographed by Kashish Thakyal. The dancers who made the spectators thump their feet include Sushant, Adhiraj, Navjeet, Ashish, Rangat, Shivang, Ujjwal, Hilesh, Yashdeep, Janvi, Diva, Divyaansh, vishwajeet, Nikhil, Jiya, Shagun,Poorvi, Dhruv, Keshav, Shivaansh, Hitesh, Yasmeen, Kartik, Varun, Saksham, Anirudh, Shiva and Aman.

The programme was very professionally compered by Miss Ashima Sharma.
Sh. Sanjay Gupta, Gen. Secy. Indian People’s Theatre Association was the chief guest on the occasion. Other’s  who shared the presidium include, Mrs.(Dr. ) Nanjla Rathore,Principal of the school,Mr. Ravinder Kant, Manoj Bhat, eminent theatre and TV artist, Vijay Malla, Pres. IPTA, J.R. Jackson,eminent choreographer of the state, Sh. Ramesh Gupta, Chairman Apna Parivaar and Sh. Ravi Shanker, Pres. Apna Parivaar .

The chief guest in his address impressed upon the parents to let the children live their life and encourage them to participate in performing arts which will help them to develop holistically. The programme concluded with the certificate cum memento distribution by the chief guest.Mr. Harkirt JIj, Organiser of the summer camp presented the vote of thanks.

-Harkirt Jij, Organiser. Mob. - 9086630412.

Monday, June 9, 2014

आगरा में 39 वें लिटिल इप्टा शिविर का समापन

गरा। रोचक और संदेशपरक कार्यक्रमों के साथ 8 जून को स्थानीय सूर सदन प्रेक्षागृह में 39 वें लिटिल इप्टा ग्रीष्म शिविर का रंगारंग समापन समारोह आयोजित हुआ। इसका शीर्षक था - ‘‘ किताबें करती हैं बातें।’’ सफदर हाशमी लिखित किताबेंऔर प्रेम धवन के गीत मिल के चलोके समवेत गायन से प्रस्तुतियों की शुरूआत हुई। शास्त्रीय नृत्य, कत्थक नृत्य, भाव नृत्य आन मिलोओर सूफी नृत्य प्रभावी थे। नन्हें-मुन्हों द्वारा प्रस्तुत परियों की रानीतथा रियलिटी शो लाइवने दर्शकों की खूब वाहवाही बटोरी। इसमें लोकप्रिय गीतों के साथ रोजमर्रा की समस्याओं को पिरोया गया था।

ब्रज लोकनृत्यों सट्टेबाजी में लगाय है बलमा आगऔर तीतुरएवं गुजराती डांडिया ने सभी का मन मोह लिया। दुष्यंत कुमार की कविता तुमने देखाका मंचन झकझोरने वाला था। वहीं तुर्की लेखक अजीज नेसिन के व्यंग्य पर आधारित जितेन्द्र रघुवंशी रचित नाटक मेरा कसूरमें जवाबदेही एक-दूसरे पर टालने की प्रवृत्ति पर चोट थी।

संगीत पक्ष डॉ. शशि तिवारी, महेन्द्र राही, सुनीता धाकड़, संजय वर्मा, राजू मास्टर ने संभाला। नृत्य-निर्देशिकायें थीं ज्योति खंडेलवाल, अलका धाकड़, स्वर्णिमा रघुवंशी, रक्षा गोयल। नाट्य एवं भावाभिनय निर्देशन जुगल किशोर, डॉ. विजय शर्मानीतू दीक्षित और मानस रघुवंशी ने किया।

इस अवसर पर अवध बिहार ट्रस्ट की ओर से शैलेन्द्र रघुवंशी स्मृति सम्मान डॉ. विजय शर्मा को दिया गया। लिटिल इप्टा के संरक्षक सुरेश चंद्र गुप्ता, अध्यक्ष एम.एल. गुप्ता, ग्रामीण बैंक ऑफ आर्यावत के क्षेत्रीय प्रबंधक अशोक कुमार शुक्ला ने सभी प्रतिभागियों को डॉ. अचिन्त माथुर स्मृति पुरस्कार प्रदान किया। शिविर में हिस्सा लेने वालों को हेमलता गोयल चित्रकला प्रोत्साहन पुरस्कार व निर्देशकों को सत्यवती रावत स्मृति पुरस्कार दिये गये। बाबूलाल श्रीवास्तव नृत्य पुरस्कार स्वर्णिमा रघुवंशी व रक्षा गोयल को, वीरेन्द्र सिंघल पुरस्कार निर्मल सिंह को, अनिता सिंघल पुरस्कार अलका धाकड़ को दिये गये। चित्तप्रसाद चित्रकला प्रतियोगिता के विभिन्न वर्गों के एक दर्जन विजेताओं को भी इनाम मिले।

सांस्कृतिक संध्या का संचालन मानस रघुवंशी, रक्षा गोयल, नव्या अग्निहोत्री ने किया। पार्श्व मंच संभालने वालों में पं. राजनारायण शर्मा, सह समन्वयक भावना रघुवंशी, अशोक थापर, सुनील वार्ष्णेय, मुक्ति किंकर, अमीर अहमद, मिलिन्द नांदेड़कर, कृष्णा शिशौदिया, रत्तीलाल, रेनू गोयल और प्रमोद सारस्वत प्रमुख थे। समन्वयन जितेन्द्र रघुवंशी ने व संयोजन सुबोध गोयल ने किया।  

Friday, June 6, 2014

सुरों की कविता है संगीत

संगीत के जनपक्षीय पहलुआें को रेखांकित करता अखिलेश दीक्षित का यह लेख खास तौर पर विश्व संगीत दिवस, 21 जून के लिये लिखा गया है। विश्व संगीत दिवस के बारे में आैर ज्यादा जानकारी लेख के अंत में दिये गये लिंक से हासिल की जा सकती है।

जे के रोलिंग की हैरी पॉटर सीरीज़ के उपन्यास हैरी पॉटर एंड द सोरसरर्स स्टोन में एक चरित्र डम्बल्डोर अपनी आँखें पोछते हुए कहता है “आह, जो कुछ भी हम यहाँ करते है संगीत उससे भी बड़ा जादू है.” संभवतः ये संवाद मेरेलिन मैनसन के उस विचार से प्रेरित है जब उन्होंने कहा “संगीत जादू का सबसे प्रबल रूप है .” यहाँ सवाल ये नहीं की कौन किससे प्रेरित है बल्कि  हम यहाँ पर संगीत की पहुँच, उसके  प्रवाह, प्रभाव, आचार और व्यवहार की बात कर रहे है. मौन के बाद ये ताकत संगीत में ही है जो अवर्णनीय को अभिव्यक्त कर दे यानी संगीत को मनुष्य की सार्वभौमिक भाषा भी कहा जा सकता है. जहाँ एक तरफ ‘ हैं सबसे मधुर वो गीत जिन्हें हम दर्द के स्वर में गाते हैं’ के विचार से इनकार नहीं किया जा सकता वहीँ यह भी सच है कि सांगीतिक धुनों व ध्वनियों के माध्यम से अपने आस-पास से लेकर वृहद् दायरे तक की स्थितियों को समझा-जाना जा सकता है. ये संगीत ही है जो तमाम तरह के भेद-भावों के बावजूद सबको एक धरातल पर ले आता है. अगर दुःख-सुख की अभियक्ति की बात की जाये तो कितनी बार ऐसा होता है की किसी रचनाकार की पीड़ा या उल्लास से उपजी कोई धुन कब निज से व्यापक होकर पूरे समाज से संवाद करती हुई उसे प्रेरित करने लगती है पता ही नहीं चलता. पीट सीगर, बॉब मारले, रवि नागर, पॉल रोब्सम, अमर शेख़, विनय राय, हेमोंगो विश्वास, प्रेम धवन और न जाने ऐसे कितने ही गायक-संगीतकार हैं जिनका संगीत यह बताता है कि आपको स्वयं कैसा इन्सान होना चाहिए और यह दुनिया कैसी हो. संगीत जटिलताओं को सुलझा कर चरित्र और संवेदनाओं को निखारते हुए दुःख, चिंता और अवसाद में एक आशा की किरण जगाये रखता है. संगीत जो  समय और मृत्यु से प्रबल है हमें आपस में जोड़े रखता है. 

ख़लील जिब्रान ने कहा कि संगीत आत्मा की भाषा है, यह जीवन  के रहस्यों को खोलकर दुखों को दूर करता है.  इस कथन के अध्यात्मिक पक्ष से इतर अगर व्यवहारिक दुनिया के बारे में भी सोचें तो जो दुःख-तकलीफें, असमानता, शोषण, वर्ग व जातियों के दकियानूसी और गूढ़ ताने-बने, ग़रीबी, भूख, वर्चस्व की लड़ाई, युद्ध, प्राकृतिक संसाधनों पर एकाधिकार और ऐसी ही तमाम अमानवीय स्थितियां जिनसे विश्व की कुल जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा जूझ रहा है और उसे ईश्वर की इच्छा जैसे तिलस्म में फंसा कर ऐसे ही जीने को मजबूर किया जा रहा है | संगीत ऐसे ही तिलस्मों को तोड़ता हुआ आम जन को अपनी लड़ाई लड़ने के लिये लगातार प्रेरित करता है. एक प्रभावशाली स्वर समूह या धुन में बंधी कोई ऐसी कविता या गीत जो ढोलक की थाप, हारमोनियम की स्वर लहरी या अन्य वाद्यों के साथ मिलकर शोषकों को ललकारती हो, ऐसे रहस्यों को खोलती हो जिन्हें हम नियति समझे बैठे हैं, जब एकल या समवेत रूप से गायी जाती है तो जटिलताओं और कठिनाइयों को पछाडती संवेदनाओं को उत्प्रेरित करती एक ऐसे उर्जा स्रोत का काम करती है जो भय को परास्त कर जन-जन को हिम्मत और साहस से भर देता है. 

संगीत लोगों को संवेदना के स्तर पर एक गहरी समझ देकर उन्हें बेहतर बनने की दिशा में प्रेरित करता है और यही तत्व जब निज से व्यापक होता है तो दुनिया भी बदल सकती है. ये संगीत ही है जो आदि को अंत से जोड़कर हमारे हृदय का साहित्य बन जाता है, हमें उकसाता भी है और शांत भी करता है, आत्मा को स्नेह से भर देता है, मन को गहन अन्धकार से लेकर अनन्त ऊंचाइयों तक ले जाता है.. हम घुटन भरे  अंधेरों मे डूब जाते है....... फिर  उम्मीद से भर जाते है ..अच्छा महसूस करते हैं...!!

किसी ने कहा कि यह एक ऐसा उपकरण है जो फ़ासिस्टों को मारता है....तो मार्टिन लूथर किंग का विचार है कि संगीत अन्दर के शैतान को निकाल कर लोगों को उल्लास से भर देता है...लोग कोप रोष और दीगर नकारात्मक, विध्वंसक विचारों और गतिविधियों से दूर हो जाते हैं, चालाकियां भूल जाते है.
जब तक कविता विद्यमान है तब तक मनुष्यता भी कायम रहेगी. और पहला कवि भी तो आह को गान से ही अभिव्यक्त करता दिखाई देता है. 

वियोगी होगा पहला कवि आह से उपजा होगा गान....!!

निश्चित ही होगा क्योंकि संवेदना की उपज पीड़ा की ज़मीन पर ही होती है...भाव अभाव में ही पैदा होता हैं... अपने प्रस्फुटन के क्षण से उड़ान भरते समस्त मानवता को अपनी बाहों में समेटे..... समाज, संस्कृति और राजनीति की पायदानों पर विचरण करता संगीत जीवन के उतार चढाव की कालकथा को धरती के विस्तारों और अनन्त आकाश में दर्ज कर देता है - और इस यात्रा में चलते हुए हमें हर सदी में दोस्त और साथी मिल ही जाते हैं. यह एक ऐसी भाषा है जिसमें आप कोई खराब, तुच्छ, व्यंग्य या कुटिल बात कह ही नहीं सकते. संगीत में एक सम्पूर्ण ब्रम्हांड को रच देने की क्षमता है तो किसी सभ्यता को नष्ट कर देने की शक्ति भी. यह अपने प्रति बहुत जागरूक और होशियार  रहने की अपेक्षा करता है.
संगीत सुरों की कविता है....

कविता को संगीत से या संगीत को कविता से अलग कर के नहीं देखा जा सकता ....
सुरों से सृजित कोई धुन वैसे ही संगीत कविता है
शब्दों से रचित छंदयुक्त-छंदमुक्त कविता
जैसे शब्द कविता
जैसे रंगों के माध्यम से बनाया गया कोई रंगचित्र
संगीत में श्रुतियों के रंग हैं
शब्दों में संगीत की ध्वनियाँ
और चित्र में रंगों की श्रुतियां
(श्रुतियां = Tones)

Music has the colours of tones
Poetry has the sounds of words
Painting has the tones of colours.

जो एक-दूसरे से अलग भी हैं और पूरक भी. शब्दों से जो ध्वनियाँ प्रसारित हो उन्हें पहचान कर स्वरों में रूपांतरित करना ही निहित संगीत को स्वरों की रंगश्रुतियों से धुन के कैनवास पर चित्र बना देने की प्रक्रिया है संगीत. जहाँ शब्द नहीं हैं वहां भी संगीत अपनी काया में स्वतंत्र रूप से भावों-संवेदनाओं को अभिव्यक्त करता चलता है - कभी प्रत्यक्ष तो कभी पाश्र्व में आकार लेता हुआ.

किसी नाटक के गीत, भाव, संवाद, अन्य परिस्थितियों व रस निष्पत्ति के लिए भी संगीत की रचना प्रक्रिया काव्यात्मक दृष्टिकोण, तरल भावों और गूढ़ संवेदना से गुज़रते हुए ही अपना रूप धारण करती है.
बाबा नागार्जुन की एक कविता है ...

घन-घन-घन धमक-धमक मेघ बजे
दादुर का कंठ खुला मेघ बजे..... 

इस कविता को १८ मात्रा के अलावा किसी और ताल में सोचा ही नहीं जा सकता. कविता इस बात की इजाज़त ही नहीं देती. यही बात इसकी धुन बनाने में भी लागू होती है और कविता से गुज़रते हुए राग मेघ-मल्हार या इसी प्रकृति का कोई और राग या स्वरलिपि गूंजती है ज़ेहन में. ऐसे सैकड़ों उदाहरण मिल जायेंगे जहाँ कविता खुद अपने संगीत की दिशा तय करती है. महाकवि निराला तो अपनी बहुत सी कविताओं के लिए राग और ताल तक निर्धारित कर गए हैं. वैसे प्रयोगधर्मिता की कोई सीमा नहीं होती ये तथ्य भी ध्यान में रखना ज़रूरी है.
मुक्त छंद कविता के पितामह टी.एस.इलियट ने अपने निबंध कविता का संगीत में कहा की ‘ कविता का संगीत सबसे पहले संगीत और कविता की एकता है. काव्य संगीत अपने समय की जनभाषा में निहित होता है और कविता की प्रत्येक क्रांति जनभाषा की और लौटने और कभी-कभी इसके लौट आने की घोषणा करने के लिए उपयुक्त होती है.”

जिसका इतना विस्तृत वितान है, इतनी अपार क्षमताएं है और इतने आयाम हैं...
तो क्या ये ज़रूरी नहीं प्रतीत होता कि बचपन से ही संगीत की ऐसी शिक्षा दी जाये जिसमें पारंपरिक बंदिशों के साथ साथ ऐसा साहित्य-संगीत भी प्रयुक्त हो जो सुरों के ज्ञान, उनके उतार-चढाव और रियाज़ के साथ संवेदनात्मक धरातल पर समाज, संस्कृति व प्रकृति सहित संगीत की प्रवृत्तियों और तत्वों के प्रति जागरूकता पैदा करे. प्रशिक्षण व कलात्मक सृजन और उनके विश्लेष्णात्मक पहलू किसी भी समाज के आत्मिक जीवन के लिये बहुत महत्वपूर्ण हैं जो सृजन के अन्य पक्षों को भी उद्घाटित करते हुए कला की सामाजिक भूमिका निर्धारित करते हैं.

मछली जल की रानी है
जीवन उसका पानी है
हाथ लगाओगे तो दर जाएगी
बाहर निकालोगे तो मर जाएगी.

यह कविता हम सबने बचपन में न केवल सुनी होगी बल्कि घेरा बनाकर अपने आँगन, छत या आसपास के मैदानों में इसे खेला भी होगा. हम इसे एक बग़ैर पारंपरिक  प्रशिक्षण  के मंचित होने वाली सांगीतिक प्रस्तुति कह सकते हैं जो स्वतंत्र अस्तित्व, जीने की आज़ादी और जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं का बयान है. ऐसे तमाम छोटे बड़े खेल है जो किसी संदर्भवश आज भी स्मृतियों में कौंध ही जाते है.. और हम उन गलियों में भटकते हैं जहाँ आज भी बच्चों का कोई झुण्ड देख कर अनायास प्रश्न ज़बान पर आ ही जाता है..अनायास..’ क्या खेल रहे हो?’ जवाब मिलता है ... वीडिओ गेम, मोबाईल गेम या क्रिकेट – स्कूलों में जहाँ सबसे पहले प्रार्थना गाने की परंपरा थी जो अब ख़त्म हो गयी... ये प्रार्थना का गीत एक तरह से सामूहिक चेतना को एक धरातल पर लाने का प्रयास था जो बच्चों के मन-मस्तिष्क को कक्षाओं और अध्ययन के अनुशासन के लिए एकदम तैयार कर देता था. सैकड़ों विद्यार्थियों का एक धुन में गूंजता हुआ स्वर न केवल उनके अपने अंतर को बल्कि पूरे भवन के कोने-कोने को सकारात्मक उर्जा से भर देता होगा.

आजकल ऐसा कम देखने को मिलता है. हाँ यह ज़रूर है कि रियलटी शोज़ ने बच्चों को एक ऐसी कोमोडिटी में तब्दील कर दिया है जो जब बाज़ार में आये सबसे ज़्यादा कीमत पाए. इस दौड़ में उनके अभिवावकों की भी उतनी ही अहम् भूमिका है जो एक निरंतरता लिए हुए सहज संगीत शिक्षा के बजाय प्रशिक्षण पैकेजों को ज्यादा तरजीह दे रहे हैं जिनका आधार संगीत के साथ एक सहज सम्बन्ध बनाने के बजाये स्पर्धा और एकाकीपन है जिसमें बच्चों का कोई अस्तित्व नहीं होता... वो भी एक निश्चित उद्देश्य के लिए जहाँ संगीत के दर्शन और विस्तार से कोई सरोकार नहीं है..एकदम मशीनी. क्या हम मे से कभी किसी ने ये जानने की कोशिश की की ऐसे शोज़ में प्रथम, द्वितीय या फिर कोई और स्थान पाने वालों के साथ अन्य प्रतिभागी भी शो खत्म हो जाने के बाद क्या करते है, कहाँ जाते है ? अपनी अस्थायी शोहरत और इनामों को लेकर उनका शेष जीवन कैसे चलता है..

दुनिया भर में हुए तमाम शोध-अध्ययन भी ये बताते हैं बचपन से ही संगीत की शिक्षा मस्तिष्क के बाएँ भाग को विकसित करने में सहायक होती है जो  भाषा प्रक्रिया  और तर्क शक्ति को गति देती है. वाह्य दुनिया को समझने में संगीत और उसकी कल्पना करने की प्रक्रिया में एक गहरा रिश्ता है जिसके माध्यम से हम एक दूसरे के साथ मिलने-जुलने वाले तत्वों के बारे में सोच सकते हैं और जो हमें विज्ञान व मानविकी के अंतर्गत आने वाले अनुशासनों को समझने में सहायक होता है.

कला में हर प्रश्न का एक ही निश्चित उत्तर नहीं होता. संगीत या कला के छात्र रचनात्मक ढंग से सोचते हुए समस्याओं के नए और अधिक तर्कपूर्ण समाधान तलाशते हैं जो निश्तित रूप से एक प्रगतिशील दृष्टिकोण का निर्माण करता है. सिर्फ़ ‘मैं, और मेरा सब कुछ सर्वोत्तम’ जैसे दृष्टिकोण को तोड़ता है जहाँ सब एक दूसरे के पूरक हो जाते हैं. संगीत की शिक्षा प्रारम्भ से ही अन्य संस्कृतियों और वहां के गीत संगीत और उनकी जड़ों के बारे में भी अवगत कराती चलती है जिससे एक ऐसे संवेदनात्मक धरातल की रचना होती है जो सांस्कृतिक विभिन्नताओं के बीच एक पुल बना देता है. प्रशिक्षण के दौरान शब्द, स्वर और ताल के बीच एक संयोजन बनाना होता है शब्द, धुन और गायन के अनुकूलतम बिंदु तक और बेहतर संयोजन से काम करने की यह शिक्षा उनके व्यावसायिक जीवन व अन्य कार्य व्यवहार में काम आती है. साज़ का सुर में होना, सही सुर लगाना, तालबद्ध तरीके से आगे बढ़ना जैसे सांगीतिक तत्व छात्रों को सूक्ष्म समझ व दृष्टिकोण से लैस कर देते हैं.. उन्हें उत्कृष्टता, कौशल और प्रवीणता के साथ आपसी सहयोग से काम करना भी सिखाते हैं. यह सब अव्यव मिलकर  छात्रों को स्वाभिमान, आत्मविश्वास और सुरक्षा प्रदान करते हैं जिससे उन्हें कार्य निष्पादित करते हुए दुनिया का सामना करने का बल मिलता है. संगीत प्रशिक्षण मस्तिष्क के उच्च स्तर की खिड़की खोलकर  अपने समय का सामना  करने, विषमताओं से जूझने और सही की  पक्षधर्ता का साहस देता है.

संदर्भवश यहाँ ‘मोज़ार्ट एफ़ेक्ट’ का ज़िक्र ज़रूरी प्रतीत होता है. इसी शीर्षक से डॉन कैम्पबेल की एक पुस्तक प्रकाशित हुई थी जिसमें विश्व प्रसिद्द कम्पोज़र अमेडियस वूल्फगोंग मोज़ार्ट के संगीत द्वारा मस्तिष्क की तार्किक और रचनात्मक क्षमता बढ़ने की बात कही गयी है. इसके बाद प्रसिद्द भौतिकशास्त्री व स्नायुविज्ञानी डॉ. गॉर्डन शॉ ने ‘ कीपिंग मोज़ार्ट इन माइंड ’ शीर्षक से एक और पुस्तक लिखी जो सितम्बर १९९९ में प्रकाशित हुई. उन्होंने संगीत को मस्तिष्क की क्षमता बढ़ाने वाली खिड़की बताते हुए यह तथ्य उजागर किया कि संगीत हमारी सोच को सकारात्मक दिशा में ले जाता है, हमारी तार्किक समझ और रचनात्मक क्षमता बढ़ाता है. इस पुस्तक के साथ मोज़ार्ट के सोनाटा इन डी माइनर स्केल (Mozart Sonata in Dm (D minor scale) की सी.डी. भी उपलब्ध है. वैसे तो सभी स्केल महत्वपूर्ण और सामान रूप से प्रभावी होते हैं मगर ऐसा माना जाता है कि डी माइनर स्केल का मानवीय संवेदनाओं और मस्तिष्क से एक अलग तरह का रिश्ता कायम हो जाता है मगर अन्ततः तो सब कुछ संगीतकार के चयन पर निर्भर होता है. अब यहाँ सवाल ये उठता है कि मोज़ार्ट ही क्यों ..बीथोवेन, बाक, शूबर्ट, शुमन, शोपेन, विवाल्डी, ताईखोव्सकी या कोई और क्यों नहीं? खैर... ये कहानी फिर सही.

चर्चा और अध्ययन का विषय हो सकता है कि संगीत का प्रशिक्षण, कोई कहानी या अन्य प्रेरक प्रसंग क्या सभी प्रशिक्षार्थियों पर एक सा प्रभाव डालते है – परंतु इतना तो किया ही जा सकता है की मौन के बाद अभिव्यक्ति के सबसे सशक्त माध्यम संगीत को शुरुआत से ही बच्चों के करीब लाया जाये या यूं कहें की उन्हें संगीत से रू-ब-रू कराया जाये. ऐसा करने से उनको कितना फ़ायदा होगा इसे सापेक्षता के सिद्धांत से समझा जा सकता है लेकिन इस दुनिया का कोई नुकसान तो नहीं ही होगा इतना निश्चित है.

देखें :

अखिलेश दीक्षित
इप्टा, लखनऊ

Thursday, June 5, 2014

"यादों में तनवीर" : 8 जून को रायपुर इप्टा का आयोजन

रायपुर। भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा), रायपुरद्वारा आगामी 8 जून को विख्यात रंगकर्मी स्व. हबीब तनवीरकी पांचवीं पुण्यतिथि के अवसरपर एक रंग व्याख्यान का आयोजन किया जा रहा है। प्रेस क्लब सभागारमें सुबह 10.30 बजे आयोजित इस कार्यक्र म में सुप्रसिद्ध फिल्म निर्देशक , कथा-पटकथा लेखक महमूद फारुकी का व्याख्यान होगा। इप्टा रायपुरके अध्यक्ष मिनहाज असद ने जानकारी दी है कि फारुकी सुप्रसिद्ध फिल्म 'पिपली लाइव' के सह निर्देशक एवं पटकथा लेखक हैं। उनकी पत्नी अनुषा रिजवी ने ही इस फिल्म का निर्देशन किया था।
संगीत नाटक अकादमी के प्रतिष्ठित बिस्मिल्लाह खान यूथ अवार्ड के विजेता फारुकी उर्दू की कथा-कथन की शैली दास्ता गोई को 21वीं सदी में पुनर्जीवित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसके अलावा स्व हबीब तनवीरकी उर्दू में लिखी आत्मकथा का फारुकी ने अंग्रेजी में अनुवाद भी किया है। उन्होंनेस्व. तनवीर पर एक डाक्यूमेंट्री (डांसिंग एट एटी-हबीब तनवीरका नया थियेटर) का लेखन एवं निर्देश भी किया है। फारुकी ने विभिन्न प्रकाशनों में फिल्म समीक्षाएं,स्तम्भ तथा आठ प्रमुख फिल्म निर्माताओं पर निबंध भी लिखे हैं। कश्मीर पर केंद्रित भारत की पहली फिल्म 'हारुद' के वे सहपटकथा लेखक भी हैं। इप्टा के इस आयोजन में महमूद फारुकी स्व. हबीब तनवीर से जुड़े अपने संस्मरण साझा करेंगे और उनकी विशेषतओं पर प्रकाश डालेंगे।

साभार : नई दुनिया

Tuesday, June 3, 2014

Important IPTA Events in June 2014

1st June,Agra (U.P.): International Children Day- Chittaprasad Memorial Painting Competition

2nd June, Dongargarh (C.G.): IPTA Shivir Samapan.

7th June: Birth Centenary of K. A. Abbas

8th June, Raipur (C.G.): Lecture on Habib Tanveer
Agra (U.P): Closing programme of 39th Little IPTA camp "Kitaben Karti Hain Baaten"

13th June, Orai (U.P.): Kabir Jayanti

21st June: World Music Day

25th June, Raigharh (C.G.): Show of "Mogra Jiyat Have"