Friday, August 1, 2014

गोविन्दराम निर्मलकर : एक पारंपरिक आधुनिक भारतीय अभिनेता

पुंजप्रकाश

दो महीने पहले की बात है : इप्टा डोंगरगढ़ के साथियों के साथ राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) के मोहारा ग्राम निवासी और कभी हबीब तनवीर के नया थियेटर के मुख्य अभिनेताओं में से एक रहे गोविन्दराम निर्मलकर का साक्षात्कार करना है। गोविन्दराम निर्मलकर अर्थात चरणदास चोर नाटक का चरणदास, पोंगा पंडित का पंडित, आगरा बाजार का ककड़ीवाला, लाला शोहरत बेग का शोहरत बेग, देख रहे हैं नैन का दीवान, मिट्टी की गाडी का नटी और मैत्रेय, मुद्राराक्षस में जीव सिद्धि, देख रहे हैं नैन का दीवान, कामदेव का अपना वसंत ऋतु का बाटम, गांव के नाम ससुरार मोर नाव दमाद का दमाद, जिन लाहौर नई देख्‍या वो जन्‍मई नई का अलीमा चायवाला, वेणीसंघारम का युधिष्ठिर सहित बहादुर कलारिन, शाजापुर की शांतिबाई, सोन सरार, जिन लाहौर नई वेख्‍या वो जन्‍म्या ई नई, कामदेव का अपना वसंत ऋतु का सपना और ना जाने कितने ही नाटकों के कितने पात्रों को जीवंत करनेवाला अभिनेता !

50 के दशक से भारतीय रंगमंच पर कार्यरत 85 वर्षीय निर्मलकर से मिलने का अर्थ है भारतीय रंगमंच के एक समृद्ध इतिहास और परम्परा से रु-ब-रु होना । निर्मलकर की रंगयात्रा महानगरीय और अकादमीक चकाचौंध से दूर, भारतीय रंगमंच और अभिनय पद्दति को समृद्दि प्रदान करती है । वे उस पीढ़ी के अभिनेताओं में से एक थे जिन्होंने बाहर से आयातित अभिनय शैलियों से इतर भारतीय पारंपरिक अभिनय शैली को बड़े शिद्दत के साथ रंग पटल पर स्थापित किया । उनकी रंगयात्रा छत्तीसगढ़ी पारंपरिक नाट्यशैली “नाचा” के जोकर से शुरू होकर हबीब तनवीर के नया थियेटर तक पहुंचती है और देश-विदेश में अपनी खुशबू फैलाती है । नाचा छत्तीसगढ़ की लोक शैली है, जिसे अमूमन निचली जाति के लोग ही करते हैं । भारत में जितनी भी लोक परम्पराएं या शैलियाँ हैं वह अमूमन निचली जाति के समपर्ण के कारण ही तो ज़िंदा हैं । ऊँची जाति और समाज के प्रतिष्ठित लोग या तो इन परम्पराओं को “नचनियां-बजानियाँ” मानते हैं या फिर इसका उपभोग मात्र करते हैं । वहीं अकादमिक और महानगरीय कलाकार इसे अमूमन देहाती, अनपढ़ और गवांरों की ही कला मानते हैं. जिस दिन हम थोपी हुई अभिनय सिद्धांतों के इत्तर रंगमंच की सच्ची भारतीयता की ओर अग्रसर होंगें उस दिन पृथवीराज कपूर, गोबिंदराम निर्मलकर, बाल गंधर्व, गिरीश घोष, गुलाब बाई, फ़िदा बाई, भिखारी ठाकुर, भुलवाराम यादव, सावित्री हैशनाम, रामचरण निर्मलकर, नथाराम गौड़, मास्टर फ़िदा हुसैन आदि के योगदान और महत्व को और अच्छे से समझ पाएंगें । वैसे भी कोई भी कला स्थानीय हुए बिना ग्लोबल नहीं हो सकती; यह तर्क सच के ज़्यादा करीब है । 

बहरहाल, हम मोहारा ग्राम पहुंचाते हैं और एक पान की दुकानवाले से निर्मलकर के घर का पता पूछते हैं । वो आगे की तरफ़ इशारा करके हमें उजले रंग के एक दुमंजिले मकान के पास जाने को कहता है । हम वहां पहुंचाते हैं तो दुमंजिले के ठीक सामने मिट्टी का एक खपरैल मकान होता है – यही है पद्मश्री, संगीत नाटक अकादमी समेत कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित और अपनी पूरी ज़िंदगी रंगमंच के प्रति समर्पित अभिनेता गोविन्दराम निर्मलकर का घर । चूने में नील मिलाकर पोते इस छोटे से घर की दीवारों पर मटमैली पड़ चुकी तस्वीरों के रूप में भारतीय रंगमंच का सुनहरा इतिहास टंगा पड़ा है और साथ ही लटके पड़े हैं भारत के राष्ट्रपति के हस्ताक्षर युक्त पद्मश्री समेत कई सम्मानों के प्रमाणपत्र । निर्मलकर हाथ में एक पतली सी लाठी लिए आते हैं. दुआ-सलाम के बाद बातों का सिलसिला चल पड़ता है. किसे पता था कि यह उनका आखिरी साक्षात्कार है ! (संपूर्ण  साक्षात्कार आप इप्टानामा मासिक के प्रवेशांक में पढ़ सकते हैं।- संपादक)

बहरहाल, 1950 का साल था । निर्मलकर लगभग 16 साल के थे । नाचा के दौरान ही हबीब तनवीर से इनकी मुलाक़ात होती है । आगरा बाज़ार नाटक के लिए निर्मलकर को अपने एक और साथी के साथ दिल्ली आने का निमंत्रण मिला तो वे असमंजस में पड़ जाते हैं । सवाल था कि रेल पर चढ़के परदेस जाएँ कि न जाएँ । आखिरकार दिल्ली पहुंचे । वहां शहरी अभिनेताओं के साथ यह दोनों अपने को बड़ा सहमा-सहमा महसूस करते हैं । अनपढ़ निर्मलकर ने सुन-सुन कर अपने संवाद जल्दी याद कर लिया । नाचा में इम्प्रोवाइजेशन के उस्ताद इन कलाकारों को एकदम तयशुदा काम करना ज़रा अखर सा रहा था । इधर शहरी अभिनेता अपने संवादों का रट्टा मार रहे थे । निर्मलकर बताते हैं कि “शहर वाले अभिनेता हमसे पूछते कि तुमलोगों ने कैसे याद तो हमने एकदिन मज़ाक किया कि हमलोग रात भर नहीं सोते बल्कि अपने संवाद याद करते रहते हैं । दरअसल वो लोग एक साथ कई जगह काम कर रहे थे और हम केवल एक । एक ही साधे सब साधे ।” फिर निर्मलकर आगरा बाज़ार के ककड़ीवाले का गीत गाने की कोशिश करते हैं पर शरीर अब साथ नहीं दे रहा. हबीब तनवीर छत्तीसगढ़ आ जाते हैं और नाचा के कलाकारों के साथ ही रम जाते हैं । 

इन अनपढ़ और देहाती माने-जाने वाले कलाकारों और हबीब तनवीर ने मिलकर भारतीय रंगमंच में क्या आयाम हासिल किया यह जग ज़ाहिर है । चलताऊ लहज़े में यदि कहें तो फर्श से अर्श तक की इस यात्रा में नैसर्गिक प्रतिभा के धनी निर्मलकर पल-पल हबीब तनवीर के साथ थे । निर्मलकर अपने और हबीब तनवीर के बारे में बहुत सी बातें करते हैं, बहुत से किस्से सुनाते हैं लेकिन वह सब फिर कभी । तत्काल केवल एक किस्सा – नया थियेटर पहली बार विदेश यात्रा पर जा रहा था। सबको हवाई जहाज़ से जाना है यह जानकार जैसे सांप सूंघ गया. लोग इस फिराक में थे कि किसी भी तरह यात्रा टल जाए. जाने के दिन घर से ऐसे विदा हुए जैसे यह आखिरी विदाई है। डरते हुए हवाई जहाज़ पर चढ़ा और विदेश पहुंचे तो कहीं खाने लायक कोई चीज़ ही न मिले. जो था वो खाने की आदत नहीं थी या दर भी था कि पता नहीं इसमें क्या चीज़ मिला हो। दल के कुछ लोगों ने तो खाना-पीना छोड़ ही दिया था और खाया भी तो फल या दूध। बाद में जब ऐसी यात्राएं लगातार होने लगीं तो धीरे-धीरे सबको आदत सी हो गई।

आज निर्मलकर की अभावग्रस्त ज़िंदगी को देखते हुए उनको दिए गए सारे सम्मान बेमानी से लगते हैं । क्या सम्मान का एक कागज़ भर दे देने से सरकार और समाज का काम खत्म नहीं हो जाता ? पूरी ज़िंदगी रंगमंच की सेवा करने के बाद भी निर्मलकर जैसे कलाकार फकीर के फकीर ही बने रहते हैं तो यह सम्मान क्या कागज़ के एक टुकड़े मात्र में नहीं बदल जाता ? यह कौन नहीं जानता कि आज रंगमंच के ठेकेदार लोग कैसे सरकारी पैसों से कैसे अपनी और अपने चमचों की जेबें भर रहे हैं वहीं निर्मलकर सरकार की ओर से मिलने वाली 1500 की पेंशन के सहारे ही इलाज और घर का खर्च चलाने को अभिशप्त थे ! बुढ़ापे के दिनों में लकवाग्रस्त शरीर लेकर उन्‍होंने अपने स्‍वास्‍थ्‍य और आर्थिक समस्याओं के मार्फ़त राज्‍यपाल, मुख्‍यमंत्री और छत्तीसगढ़ के संस्कृति मंत्री तक के से गुहार लगाई किन्तु प्रजातंत्र के कानफाडू शोर में एक निचली जाति के लोक कलाकार सुनने की फुर्सत किसी के पास नहीं है ! आखिरकार इन्होने तय कर लिया कि पद्मश्री लौटा देना है । निर्मलकर कहते हैं “जो सम्मान न मेरे काम आ रही है, न मेरी कला के उसे धारण करने से क्या लाभ !” 

राज्य सरकार को लगा कि किरकिरी हो जाएगी तो जैसे तैसे मामले को निपटा भर दिया गया । एक तरफ़ जहाँ अनुदान की राशि का बंदरबांट मचा है वहीं नाचा की दुर्गति से परेशान निर्मलकर नाचा के लिए कुछ करना चाह रहे थे तो सरकार अनुदान देने को तैयार नहीं होती । निर्मलकर कहते हैं- “पद्मश्री के बाद कई लोगों ने मान लिया कि मुझे सरकार की ओर से सम्मान के साथ-साथ लाखों रुपये भी मिले होंगे । जबकि सच्चाई यह है कि इस सम्मान पत्र के अलावा मुझे सरकार से एक धेला तक नहीं मिला । मैं चाहता था कि नाचा को मैं नई पीढ़ी को सौंप दूं, लेकिन अब अफसोस के साथ मुझे इस दुनिया से अलविदा करना होगा ।” श्‍याम बेनेगल द्वारा निर्देशित फिल्म चरणदास चोर में अभिनय कर चुके निर्मलकर का मन अब अपने किये नाटकों की सीडी देखने को करता है लेकिन उनके पास न ढंग की सुविधा है और ना ही अपने किसी भी नाटक की रिकॉडिंग । नया थियेटर रिकॉडिंग देने को कहता है लेकिन देता नहीं । वैसे भी हबीब तनवीर के देहांत के बाद नया थियेटर अपने पुराने कलाकारों को जैसे भूल सा ही गया है । 

सवाल तो बहुत सारे हैं पर किससे करें ? उस समाज से जिसे केवल कलाकार की कला का रस लेना आता है, ज़िम्मेदारी नहीं ? यदि निर्मलकर किसी कॉरपोरेट के बनाए नकली और सामानबेचू नायक या नेता होते तो क्या उनकी हालत ऐसी ही होती ? परंपरागत भारतीय रंग शैली को पल-पल अपनी सांसों में बसाए गोविन्दराम निर्मलकर एक आधुनिक कलाकार थे जिन्होंने लगभग पन्द्रह दिनों आंबेडकर अस्पताल में लकवे और मस्तिष्क की फटी नशों से संघर्ष करने के बाद आखिरकार इस नाशुक्रे संसार को अलविदा कर ही दिया । निर्मलकर, अब इस दुनियां में नहीं हैं । जीते जी वो जैसे भी रहे मरने के बाद “राजकीय सम्मान” दिया ही जायेगा – निर्मलकर चाहें न चाहें उनकी मर्ज़ी यहाँ भी नहीं चलेगी । निर्मलकर यदि महानगरीय अभिनेता होते तो देश के कई शहरों में अब तक शोक सभाओं का आयोजन हो गया होता और लोग फूल माला से इनकी तस्वीरों को लाद देते लेकिन -- जब तक कलाकार और समाज अपने असली नायकों का जिम्मेदारीपूर्वक सम्मान करना नहीं सीखता तब तक सब ऐसे ही चलेगा । यह सब दुखद तो है ही अफसोसजनक भी है !!!


No comments:

Post a Comment