Tuesday, December 27, 2016

‘हमारे समय में’ का मंचन 28 दिसम्बर को

प्टा रायगढ़ के तेइसवें नाट्य समारोह के चौथे दिन बहरूप आर्ट ग्रुप दिल्ली द्वारा प्रस्तुत नाटक ‘हमारे समय में’ का मंचन किया जाएगा। इस नाटक के लेखक हैं शाहिद अनवर और निर्देशक हैं के. एस. राजेन्द्रन।

‘हमारे समय में’ एक आधुनिक त्रासदी है। ‘हमारा समय’ आज बहुदलीय मिलीजुली राजनीति की अनिश्चितताओं, वैचारिक खोखलापन, सैटेलाइट चैनल्स जो आज खबरों का उत्पादन कर रहे हैं उदारीकरण/बाज़ारकेन्द्रित अर्थव्यवस्था और करोड़ो डॉलर के आध्यात्मिक उद्योगों का साक्षी है। इस राजनैतिक पृष्ठभूमि पर एक युवा उग्र मार्क्सवादी के अस्तित्ववादी असमंजस को नाटक में चित्रित किया गया है। इसतरह का नाटक अपने अभिनेताओं से विचारों की तीव्रता एवं स्पष्टता की अपेक्षा रखता है। यह नाटक आज के एकरेखीय विश्व के पतन को रेखांकित करता है। इसतरह के विश्व में वैकल्पिक अस्तित्व के लिए सभी संभावनापूर्ण दृष्टियाँ खो जाती हैं। जब प्रतिरोध की परम्परा छीजती जा रही हैं, ऐसे समय में सपनों और आशाओं को किसतरह बचाकर रखने की कोशिश की जाती है।

उल्लेखनीय है कि बहरूप आर्ट ग्रुप प्रसिद्ध लेखक शाहिद अनवर की ही नाट्य संस्था है। इप्टा रायगढ़ के लोकप्रिय नाटक ‘बी थ्री’ के लेखक शाहिद अनवर ही हैं। शाहिद अनवर के दुखद निधन के बाद 17 से 20 नवम्बर 2016 को उनकी स्मृति में दिल्ली में बहरूप आर्ट ग्रुप द्वारा उनके लिख हुए चार नाटकों का समारोह आयोजित किया था, जिसमें इप्टा रायगढ़ ने भी ‘बी थ्री’ का मंचन किया था।

नाटक पॉलिटेक्निक ऑडिटोरियम में शाम सात बजे से आरम्भ होगा। प्रवेश निःशुल्क है।



5 comments: