Friday, August 29, 2014

SSSC (Save Sharmila Solidarity Campaign) CONDEMNS IROM SHARMILA’S RE-ARREST

Save Sharmila Solidarity Campaign (SSSC) is a nation-wide campaign in support of Irom Sharmila and for the repeal of the draconian law of AFSPA. For three years now, it has been working to spread awareness, mobilise support and generate political pressure to repeal the law. In this regard, it has organised awareness campaigns, public demonstrations, two nation-wide awareness rallies, nation-wide signature campaign, met NHRC chairperson, written letters to PMO, the President and other authorities etc. It is an umbrella of many civil society organisations.

On 19th August, Imphal Court in its humane judgement had ordered to release Irom Sharmila as it stated that “no supportive evidence of attempted suicide” was found. But today, the Manipur police had forcibly re-arrested her.

SSSC condemns this re-arrest. Ravi Nitesh, core member of SSSC remarked, “The arrest of Irom Sharmila is shameful and undemocratic. Instead of focusing on her demand, her issue, the Government is only responding by arresting her. It is shameful that in these 14 years, the “concerned” Govt. of both state and centre have not made a single attempt to open talks with her.” “The Govt. must also know that by arresting her, they cannot suppress her thoughts, her ideology,” he added.

Pankaj Pathak core member of SSSC stated, “She is being arrested on the claim of attempting suicide while she has always refuted this claim. She has re-iterated several times that she loves her life and is only demanding rights, equality and justice for everyone. Why doesn’t the Govt focus on the reason, on her statement?”

Devika Mittal, core member of SSSC, said, “It is shameful that that they can only see her as a law offender but not as a victim. It is shameful that in this democracy, the victim is imprisoned instead of the culprit. AFSPA is the culprit and this has been established by Govt-appointed committees, national and international human rights’ organizations and even judiciary. ”

SSSC believes that AFSPA must be repealed as an immediate measure. It should be noted that even government's own committees have recommended the measures to do the same. The continuous violation must need to stop. Also, Government must come forward to express its 'willing' attitude of resolving the problem rather than ignoring the peaceful and non violent struggle of Irom Sharmila. SSSC considers Irom Sharmila as its leader and will always stand for her support for the very cause of truth, justice, humanity and peace. At the same time, SSSC demands with the government to remove the case of 'attempt to suicide' from her and to make her free to communicate with her supporters. Until the demands will be fulfilled, the struggle and demonstrations will continue. 

National Committee of Indian People's Theatre Association (IPTA) is supporting the campaign! 


Saturday, August 23, 2014

Kolkata celebrates theatre legend Sombhu Mitra

Kolkata: Dubbed as the pioneer of contemporary Bengali theatre, thespian Sombhu Mitra's birth centenary celebrations were ushered in, today, with discussions revisiting his works and interviews of those associated with him.
Born on Aug 22, 1915, the Ramon Magsaysay Award winner produced some of the finest adaptations of world classics for Bengali audiences.
Poster of the film 'Jagte Raho', one of Sombhu Mitra's popular work.
Be it the maiden staging of 'Rakta Karabi' or red oleanders (adapted from Nobel laureate Rabindranath Tagore's play) or 'Putulkhela', an adaptation of Norwegian playwright Henrik Ibsen's 'A Doll's House', his works mirrored society and showcased the triumph of humanity over materialism.
In 1948, after disassociating from the Indian People's Theatre Association, he founded the theatre group 'Bohurupee' with 15 artists including theatre veterans Bijon Bhattacharya. Mitra's wife Tripti, another legend of Bengali theatre was also one of the co-founders.
The non-commercial dramatic troupe churned out experimental Bengal plays that broke away from stereotypes and gathered a cult following.
The versatile genius made a mark as an actor, playwright and director. Some of his popular films include "Dharti Ke Lal" (1946), "Jagte Raho" (1956) and plays such as "Chand Baniker Pala".
On the occasion of the prolific playwright's birth centenary, DD Bharti will telecast Bohurupee's production 'Dak Ghar' directed by his wife, Tripti. The play features Mitra, actors Chaiti Ghoshal and Kumar Roy.
Ghoshal, with other theatre veterans and Bengali film and TV actors participated in a discussion 'Sotoborshe Sombu Mitra' at the Gallery Gold here.
During the week, celebrated director-actor and cultural critic Rudraprasad Sengupta will deliver a commemorative lecture Aug 24 at the Uttam Manch in Kolkata.
Mitra died on May 19, 1997. He was honoured by the Sangeet Natak Akademi with its highest award, the Sangeet Natak Akademi Fellowship for lifetime contribution in 1966.
In 1970, he was awarded the Padma Bhushan, India's third highest civilian honour, and in 1976 the Ramon Magsaysay Award.

Courtsey :

Sombhu Mitra’s birth centenary

Sombhu Mitra, in his acceptance speech for the Magsaysay Award, spoke of the artistic urge in human beings that separated them from other species: “…it is in the nature of man that he is compulsively driven to overcome the dictates of mere convenience. In the early days of civilization, as he needed to draw water, he invented the urn. The urn was filled, but not his heart. So he began now to decorate it with colour, geometric patterns, and his imagination. What an incomprehensible and strange craving!”
Perhaps it was this belief, and a recognition of his own “incomprehensible and strange craving” that led him to break away from the idealistic and message driven plays of the Indian People’s Theatre Association, and in 1948, to found Bohurupee along with Bijon Bhattacharya and other associates in Calcutta.
Bohurupee was a pioneering theatre group as it represented the individual artistic quest, perhaps what could be called the middle ground between commercial theatre and those productions whose underlying aim was to raise awareness among the masses.
“For him theatre was high art,” feels Raka Chakravarty, who from childhood had a chance to observe the philosophy and working style of the icon. “It was not to be used like street theatre or for propaganda. It was pure art, and for that of course he selected the best of plays.”
Raka’s father, eminent journalist Prithvis Chakravarti, is credited with bringing Bohurupee to Delhi for the first time. The occasion was the National Theatre Festival held at the All India Fine Arts and Crafts Society (AIFACS) in 1956, and Chakravarty was one of the event’s main movers. “In fact this was the inaugural event of AIFACS,” recalls Raka.
There was another significance to the occasion. Charles Fabri, the highly influential critic whose writings in newspapers including The Statesman moulded public opinion nationally and internationally, was convinced that contemporary Indian theatre had no identity of its own and the productions being done were either mythological or historical plays or merely adaptations of Western theatre. On the other hand, Bengali artists and thinkers were sure that the works of Rabindranath Tagore, imbued with the spirit of India, were not stageable. Mitra’s path-breaking production of Tagore’s “Rakta Karabi” demolished both these notions. Chakravarti and Fabri had laid a wager, says Raka, and Fabri had to accept the worth of Indian theatre when “Rakta Karabi” was presented by Bohurupee at the 1956 festival.
Bohurupee performed two productions, “Rakta Karabi” and “Chhenra Taar”, and both were so excellent it was difficult for the jury to decide which should be given the top prize, she notes.
Well known theatre director Kirti Jain, former Director of the National School of Drama, also looked to ‘Sombhu da’ as an avuncular figure. She too grew up in the benevolent ambience of friendship shared by her parents — Nemichandra Jain and Rekha Jain — with Sombhu da and his wife the celebrated actress Tripti Mitra.
Conversations between Kirti’s father and Mitra would range from philosophy to mathematics, language and semiotics to politics. “He could create in you a curiosity about so many things. That kind of range I saw in my father too,” she says. “I found that very fascinating. It was more than theatre; it was a whole way of life. And that entire generation had it, though of course Sambhu da was special.”
On her own interactions with Mitra, she says, “For me, it was like hero worship, someone you could look up to in theatre. It was nice to have that access to him through my parents.”
Her last interaction with him was a professional one, where she interviewed him for a film. “That interview wasn’t as warm as I had expected,” she recalls. Since at home, “it was always laughing and talking, and food, and making fun of the food, and all that happens in a home,” she had thought that her involvement in the interview would ensure a measure of informality, but this did not happen. “Maybe because he wanted it to be formal,” she muses.
But the reason could also have been his fierce conviction regarding his work. Raka too knew the difference between Mitra’s personal and directorial personas. The Chakravartys would spend summer vacations in Kolkata, and regular visits to Bohurupee to listen to play readings were a memorable feature of these holidays. “He (Mitra) was a family friend and one was not in awe of him,” notes Raka, “but there, he was like an emperor!”
Averee Chaurey, who acted under Mitra’s direction in significant roles as a youngster in Kolkata, while referring to him as “amazing,” admits that he was “aloof, not paternal”, and “never allowed anybody else to direct.” Mitra had “a great intellect and could recite a hundred poems at a time,” says Averee.
Punctuality was non-negotiable. Anyone who came even five minutes late would not be allowed into the rehearsal. Kumar Roy, who took over the reigns after Mitra left Bohurupee, was “paternal”, she adds. However, the group continued to follow Mitra’s philosophy. “We had body movement and voice training, we learnt the harmonium and singing and poetry recitation.”
If the discipline Mitra inculcated has remained to this day in the theatre artists he moulded, he also brought out unexpected talents. Rekha Jain was married as a child to Nemichandra Jain. Joining IPTA, Calcutta, with her husband, she found herself for the first time expected to sing and dance and act. Her first role was in the Hindi version of “Navanna”.
“My father had translated it (into Hindi) and Sombhu da was directing it. My mother was from a very conservative family. She had to play the role of a woman who because of poverty takes to prostitution. She used to tell us about how Sombhu da got her out of that embarrassment.”
Mitra was also a formidable actor. Kirti recalls seeing him as Chanakya in “Mudrarakshas”. There was excitement around the production as he was returning to the stage after a gap. The audience had yet to settle down when the play started. “Sombhu da was speaking. And suddenly he stopped, and looked from one end of the auditorium to the other, and there was pin drop silence!”
Courtesy : The Hindu 

Such was the command of the man who was among the pioneers of group theatre in India, who believed in stories of the common people, for the common people.

IPTA pays homage to veteran Indian Writer U. R. Ananthamurthy

IPTA pays homage to veteran Indian Writer U. R. Ananthamurthy. Udupi Rajagopalacharya Ananthamurthy was a wellknown writer and critic in the Kannada language and was considered as one of the pioneers of the Navya movement. 

Born: December 21, 1932 (age 82), Thirthahalli

Spouse: Esther Ananthamurthy (m. 1956)

Education: University of Birmingham

Books: Bhava, Samskara: A Rite for a Dead Man, more
Children: Anuradha Ananthamurthy, Sharat Ananthamurthy

Movies on his works:
Samskara (1970),The Ritual (1977),Diksha (1991),
Sookha(1983) was directed by M.S.Sathyu.It was screened at the IPTA National Convention(1985) at Agra.

Tuesday, August 19, 2014

इप्टा झारखंड की सात दिवसीय नाट्य कार्यशाला

मेदिनीनगर : संस्कृतिकर्म की सृजनात्मकता, रचनात्मकता व बेहतरी के लिए इप्टा झारखंड के द्वारा सात दिवसीय नाट्य कार्यशाला का आयोजन किया गया है। इस नाट्य कार्यशाला में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नाट्य निर्देशक सह नाटककार प्रोबीर गुहा बतौर मुख्य प्रशिक्षक उपस्थित हैं। इप्टा के परिचय गीत के साथ इसका आगाम किया।

इप्टा झारखंड के सांस्कृतिक चिंतक शैलेंद्र कुमार ने कार्यशाला के उदघाटन सत्र में कहा कि पूरी दुनिया में आभासी सत्य को स्थापित करने की कोशिश की जा रही है। ऐसे में वास्तविक सत्य गुम हो जाएगा। जो समाज के लिए काफी खतरनाक है। इस खतरे से समर्पित व दक्षता के साथ किए गए संस्कृति कर्म से हम लोहा ले सकते हैं। बतौर मुख्य प्रशिक्षक उपस्थित प्रोबीर गुहाने कहा कि डालटनगंज अन्य शहरों से बिलकुल अलग है। यहां वास्तविक संस्कृति कर्म होता है। यही कारण है कि यहां नाट्य कार्यशाला का आयोजन हुआ है।

उदघाटन सत्र में इप्टा के संरक्षक डा अरूण शुक्ला, आलोक वर्मा, पंकज श्रीवास्तव, उपेंद्र मिश्र, विनिता असर, प्रेम भसीन, राजन सिन्हा, रवि शंकर आदि ने कार्यशाला के सफलता की कामना करते हुए प्रोबीर का गर्मजोशी से स्वागत किया। इप्टा झारखंड के महासचिव उपेंद्र मिश्रा ने कहा कि यह कार्यशाला सिर्फ इप्टा के कलाकरों के लिए नहीं है। इच्छुक कलाकार इसमें भाग ले सकते हैं। कार्यशाला में पलामू, रांची, गढ़वा, लइयो, चाईबासा, टाटा से इप्टा इकाई के कलाकारों केसाथ मासूम आर्ट के कलाकार भी भाग ले रहे हैं। उदघाटन सत्र में अन्य लोगों के अलावा पलामू इप्टा के बाल कलाकार रोहित, सौरभ, सानू, सोना, समर व मोनू सहित गोपाल सिंह, नमस्कार तिवारी, दिव्य प्रकाश आदि उपस्थित थे। सत्र का संचालन इप्टा के पलामू जिलाध्यक्ष शैलेंद्र सिंह व प्रेम भसीन ने धन्यवाद प्रेषित किया।

जागरण से साभार

Thursday, August 14, 2014

ज़ोहरा सहगल : कितने-कितने शिखरों के पार

शकील सिद्दीक़ी

ह अनुमान लगा पाना निश्चय ही कठिन था कि नृत्य व अभिनय के क्षेत्र में 80 वर्ष तक निरन्तर सक्रिय रहने वाली नितांत चुलबुली हंसोड़, बिन्दास, नित नई बुलन्दी छूने वाली ज़ोहरा सहगल कैन्सर जैसे जान लेवा रोग से ग्रस्त थीं। ये अनुमान लगा पाना भी कठिन था कि उस थिरकन, हास्य व लय का नित नया अनुभव देने वाली जीवट खिलंदड़ी महिला के भीतर अवसाद की आॅधियां भी मचलती थीं। प्रशंसकों, कलाकारों, प्रोग्राम प्रोडयूसरों से घिरी रहने वाली दो बच्चों की मां पचास वर्ष से कम की वय में एकांत के स्थाई यथार्थ को जीने पर मजबूर हुई। फिर भी मुसीबत के क्षण हों या कामयाबियों से मिली प्रसन्नता के लम्हे, न तो उनके व्यक्त्वि की गरिमा पर कोई आँच आई न खिले-खिले से चेहरे पर कोई शिकन। मुक्तभाव से अनार के दाने जैसी उनकी हंसी उतनी ही सुर्ख़ बनी रही। बाधाओं को पार करते हुए लगातार आगे बढ़ने का मूल्यवान सन्देश वे उसी आवेग से देती रहीं। उनकी प्रत्येक गतिविधि से जीवन राग-थिरकता था। जैसे वे कह रही हों सीखो-सीखो, सीखो प्रत्येक क्षण, प्रत्येक दिन, ख़तरे उठाओ और जीवन को बदलो। उनका समूचा जीवन ठहराव व जड़ता से स्थाई चिढ़ का प्रतीक है।

निर्भीक, बिन्दास और अद्वितीय अभिनेत्री-नृत्यांगना ज़ोहरा सहगल से मैं मिला अवश्य परन्तु उनसे गुफ़्तगू मेरी अतृप्त इच्छा बनकर रह गयी यों तो उन्हें देखना उन्हें बोलते हुए सुनना ही अपने आप में मूल्यवान अनुभव से समृद्ध होना था। निस्वानियत की बन्दिशों को धता बताती उनकी बेबाक हँसी, नाटकों व फ़िल्मों में बोले गये संवादों का उनका दोहराना, अतीत में लौटते हुए उनका श्रोताओं को रोमांच से भर देना सब गहरे तक प्रभावित करता था। अब वह सब भी यादों का हिस्सा हो गया है। उनका स्मरण विचलित करता है ।सृजनात्मकता को जीवन शैली की उच्चता देते हुए वो स्वयम् सृजना की बे जोड़ शिल्प के रूप में स्थापित हुर्इं।

उन्हें याद करते हुए एक पारम्परिक मुस्लिम पठान परिवार की कंटीले बाड़ों के बीच पली-बढ़ी वर्जनाओं बन्धनों को तोड़ती स्त्री का अपूर्व साहस याद आता है। वो विद्रोह याद आता है जो उनकी पांच बहनों में कम से कम तीन बहनों, हाजरा, ज़ोहरा, तथा उज़रा की पहचान बना। हाजरा अपने समय में बीसवीं सदी के चैथे-पांचवे दशक तथा आगे की सक्रिय कम्युनिस्ट कार्यकर्ता थीं। परिवार की इच्छा के विपरीत उन्होंने जुझारू कम्युनिस्ट नेता जे़ड. ए. अहमद से न केवल प्रेम-विवाह किया बल्कि ज़ोहरा सहगल द्वारा उदय शंकर मंडली के अत्यंत प्रतिभावन कलाकार कामेश्वर सहगल से विवाह करने की इच्छा को तमाम विपरीतताओं-अवरोधों के बावजूद पूरा करने में भर पूर मदद की। प्रगतिशील लेखन आन्दोलन, मज़दूर आन्दोलन तथा महिला आन्दोलनों को भी उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। पर्दाप्रथा से सम्बद्ध परिवार की सदस्य होने के बावजूद सार्वजनिक जीवन व रंगमंच में ज़ोहरा व उज़रा के प्रवेश को संभव बनाने में अपनी बहनों व दूसरे परिजनों की सोच को आधुनिक व प्रगतिशील दिशा देने में भी उनकी कोशिशों को याद किया जा सकता है।

वहीं छोटी बहन उज़रा सुन्दर तो थीं ही उनमें अभिनय की प्रतिभा भी कूट-कूट कर भरी हुई थी। इप्टा के पहले नाटक ‘‘ज़ुबैदा में  नायिका के रूप में उनके अभिनय से पृथ्वी राजकपूर इतना प्रभावित हुए कि उन्हें पृथ्वी थियेटर्स के पहले नाटक ‘शकुन्तला’ की नायिका के लिये सबसे उपयुक्त मान लिया। ‘शकुन्तला’ से आरंभ हुई यह यात्रा उनके सत्रह नाटकों तक जारी रही। उज़रा ने पृथ्वी थियेटर्स के साथ देश के अनेक क्षेत्रों के साथ दूसरे देशों की यात्राएं भी कीं।

27 अप्रैल 1912 को सहारनपुर में जन्मी ज़ोहरा जन्मजात विद्रोही थीं। ‘होनहार बिरवा के चिकने पात’ बहुत छोटी उम्र से प्रकट होने लगे थे। सातवीं सदी में यहूदी से मुसलमान बना रूहेला पठानों का यह परिवार झीनी-झीनी आधुनिकता के प्रति उत्साहित होने के बावजूद स्त्री-शिक्षा के प्रति बहुत आग्रही नहीं था। सर सैयद की सोच का प्रभाव यहाँ भी था। बर्फ तो तब पिघली जब 1919 में हाजरा व ज़ोहरा का प्रवेश सैकड़ों मील दूर लाहौर के प्रसिद्ध अंग्रेजी स्कूल ‘‘क्वीन मैरीज़‘‘ मे कराया गया। ऐसा इस कारण भी हो सकता है कि वहां आधुनिक शिक्षा के बावजूद पर्दे की पाबन्दी थी। ज़ोहरा ने पढ़ाई में नये कीर्तिमान बनाते हुए कालेज के वातावरण को संस्कृतिमय बनाने में सक्रिय भूमिका ली। उन्हें दो बार डबुल प्रमोशन मिले फिर भी दसवीं की परीक्षा में बैठने से रोक दिया गया क्यांेकि वह इस परीक्षा के लिए निर्धारित उम्र से पहले दसवीं कक्षा में पहँुच गयी थीं। यही वो जगह थी जहां उनमें अभिनय प्रतिभा के प्रारंभिक कोंपल फूटे ‘^The Rose and the Ring’ नाटक में अभिनय-शिखर की ओर उनकी यात्रा का आग़ाज़ था।

थोड़े अन्तराल के उपरांत ही दस वर्ष की आयु में ‘‘जैक एंड द बीन स्टाक‘‘ नाटक में वो जैक के रूप में मंच पर प्रस्तुत थीं। उधर गर्मियों की छुटिटयों में उनके बड़े भाई ज़काउल्लाह ख़ान प्रत्येक सप्ताह एक नाटक तैयार करते जिसमें नायिका ज़ोहरा होतीं तो भाई नायक की भूमिका में। घर से लेकर कालेज तक में यह धारणा प्रबल होती जा रही थी कि यह लड़की एक दिन बड़ी अभिनेत्री बनेगी। 1929 में दसवीं कक्षा उत्तीर्ण करते-करते वे 17वें वर्ष में प्रवेश कर चुकी थी। इस उम्र तक उस समय लड़कियों की शादी हो जाना एक अनिवार्य सिद्धांत की तरह था। लेकिन जैसा मैं पहले भी कह आया हूं कि विद्रोह के तत्व उनके भीतर कूट-कूट कर भरे हुए थे। उनका तब तक का जीवन रूढ़ियों, परम्पराओं व वर्जनाओं से मुठभेड़ में गुज़रा था। शादी के मामले में भी उन्होंने परिवार के दबाव के आगे झुकना स्वीकार नहीं किया। अगस्त 1935 में उदयशंकर की अति विख्यात नृत्य-नाट्य मंडली से उनका जुड़ना स्वयम् उनके लिये, उदयशंकर और उनकी मंडली के लिए और भारतीय नाट्य व नृत्य के लिए भी एक सुखद संयोग तथा महत्वपूर्ण उपलब्धि थी। दो एक दम भिन्न शिल्प व शैलियों के किसी हद तक संस्कारों के भी समन्वय व मिश्रण की शुरूआत थी।

एक तरह से यह उनकी लगातार प्रखर होती प्रतिभा का सर्वाधिक उत्तेजनापूर्ण विस्फोटक काल था। मंडली की मुख्य प्रशिक्षका ऐलिस ने उनका स्वागत अकड़ी हुई लड़की के रूप में किया। यहां उन्होंने मात्र ग्यारह दिनों में फ्रेंच प्रभाव वाले बारह डांस सीखने का कीर्तिमान बनाया। 8 अगस्त 1935 को कलकत्ता के ‘द न्यू एम्पायर थियेटर’ में उदयशंकर के साथ उनका पहला शो हुआ। 18 वर्षो पर फैला यह साथ 1953 में गहरे अवसाद के साथ अवसान ग्रस्त हुआ। समुद्र का वेग जैसे ठहर गया था। दोनों ने भारतीय नाटय व नृत्य परम्परा में कई जड़ताओं को तोड़ा तथा अनेक नई निर्मितियों को संभव बनाया था। कलात्मकता ने अधिक मधुर लय अर्जित की थी। विदेशों में भारतीय नृत्य को पहचान दिलवाने में दोनों का बहुमूल्य योगदान है।

इस बीच ज़ोहरा तथा छोटी बहन उज़रा जन व लोक नाट्य में विचारोन्मुख क्रांतिकारी तब्दीलियों को संभव कर सकने वाले जन प्रतिबद्ध भारतीय जन नाट्य संघ  व पृथ्वी थियेटर्स के सम्पर्क में आयीं। कला के सामाजिक सरोकारों से जुड़कर सोद्देश्यता प्राप्त करने का ये ऐतिहासिक अवसर था। वो बाम्बे इप्टा की उपाध्यक्ष भी बनायी गयीं। इप्टा के साम्प्रदायिकता, दमन व शोषण विरोधी अभियानों का वो अभिन्न हिस्सा थीं। बंगाल के अकाल पीड़ितों की सहायता अभियानों से भी वो सम्बद्ध हुई। एक अकेले कन्सर्ट के ज़रिए उन्होंने अकाल पीड़ितों के लिए 42000@रू0 जमा किये।

मंच पर सक्रियता के दौरान फ़िल्मों में विभिन्न चरित्र निभाने के प्रस्ताव उन्हें मिलते रहे। उन्होंने लगभग 30 भारतीय व विदेशी फ़िल्मों में विभिन्न चरित्र अभिनीत किए। भारत में उनकी अधिक फ़िल्में सन् 90 के बाद की हैं। यों उनकी पहली फिल्म इप्टा के दौर की ‘धरती के लाल’ थी। लगभग इतने ही नाटकों में उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर प्राप्त हुआ। लगभग दस टी.वी. धारावाहिकों में काम किया तो लन्दन में ऐसे धारावाहिकों की संख्या तक़रीबन छै है। जहां तक लन्दन में किए गये उनके काम का सम्बन्ध है तो ‘डाउन एवरी स्अंीट’ तथा ‘द यर्निंग’ को काफ़ी ख्याति प्राप्त हुई। मदीहा गौहर (पाकिस्तान) के निर्देशन में मंचित ‘एक थी नानी’ में उनके चरित्र के कारण उन्हें लाहौर, कराची, लन्दन के अतिरिक्त दूसरे शहरों में भी हाथों- हाथ लिया गया। ठीक वैसे ही जैसे दूरदर्शन का धारावाहिक ‘‘मुल्ला नसीरूददीन‘‘ ने उन्हें घर-घर के बुज़ुर्ग की हैसियत दिला दी।

अदभुत है उनका परिश्रम और अभिनय। हबीब तनवीर, इब्राहीम अल्का जी, अमीर रज़ा, सुहैला कपूर जैसे ख्यात-प्रतिष्ठित हस्तियों के निर्देशन में अभिनय के नये शिखर स्थापित किए। प्रसिद्ध जैदी सिस्टर्स के साथ भी काम किया। कितनी फ़िल्में तो केवल उनके कारण देखी गयी। भंसाली की सांवरिया उनकी अन्तिम फ़िल्म थी। वो दिलों में बस जाने वाली अभिनेत्री थीं। मंच पर वो चाहे जितना रौद्र रूप धारण कर लें, उनके हाथ में छुरी हो या लाठी, आंखें उनकी चाहे जितनी फैल गयीं हों, अधर चाहे जितना मुस्कान विहीन हो, उनके चेहरें की एक-एक लकीर से मानवीय संवेदना फूटी पड़ती थी। विश्व का शायद ही ऐसा कोई इलाक़ा हो जहाँ उन्होंने अपने अभिनय या नृत्य प्रतिभा का लोहा न मनवाया हो। यहां तक कि अरब व अफ्रीक़ी देशों में। जिस विराटता में उन्होंने विश्व का भ्रमण किया उतनी ही सवदयता से उन्होंने अलग-अलग क्षेत्रों की कला विशिष्टताओं को ग्रहण भी किया। लन्दन के एक स्कूल में जहाँ उन्होंने नाट्य प्रशिक्षण लिया तो अन्तोन चेख़व के भतीजे मीशेल से अभिनय के गुर सीखे। स्तालिनावस्की नाटय शैली की बारीकियों को समझा। पृथ्वीराज कपूर से भी उन्होंने लगातार सीखा। उदयशंकर की मंडली में रहते हुए उन्होंने उनसे तो बहुत कुछ ग्रहण किया ही, यूरोपियन एवं भारतीय नृत्य गुरूओं से भी कुछ पाने को भी लगातार लालायित रहीं। सीखने की असीम इच्छा, कठिन परिश्रम तथा अभिनय व नृत्य के प्रति समर्पण ने ही उन्हें महान कलाकार बनाया और उनके सपनों की मूर्तता को संभव किया।

सच पूछिये तो उनके स्वप्नों में रंग भरने में उनके परिवार के पुरूषों, पिता मामाओं और भाइयों की दिलचस्पी और मदद का भी विशेष महत्व है। विशेष रूप से उनके एक मामा साहबजादा सैदुज़्ज़फ़र खान जो अपने समय के अत्यंत प्रतिष्ठित सर्जन थे, कालांतर में उन्हें लखनऊ मेडिकल कालेज का पहले भारतीय प्रिंसिपल होने का गौरव भी प्राप्त हुआ। इस सराय फ़ानी से रूख़्सत होते हुए उनकी मां की यह ख़्वाहिश भी बहुत अहम है कि ‘‘मेरी जायदाद से मिलने वाली रक़म मेरी बेटियों की तालीम पर ख़र्च की जाए।‘‘बड़ी बहन हाजरा बेगम तथा बहनोई कामरेड ज़ेड.ए. अहमद की मदद व रहनुमाई भी बहुत काम आई। अभावों, बेघरी और आजीविका का निश्चित स्थाई साधन न होने के कारण कई बार जीवन अधिक कठिन हो आया। बावजूद इसके कि प्रदर्शनों से उन्हें पर्याप्त आय होती रही थी। कठिनाई निरन्तरता के टूट जाने, कुछ उम्र के बढ़ते जाने तथा कामेश्वर की असफलताओं के कारण पैदा हुई।

एक सौ दो वर्ष की जीवन यात्रा में युवा काल के बाद उन्हें कई तरह के संघर्षो से गुज़रना पड़ा। हर बार वो बाधाओं के समक्ष मजबूत चटटान के समान खड़ी हुईं। अवरोध पराजित हुआ परन्तु कामेश्वर लगातार मिलती असफलताओं के कारण हिम्मत हार गये। वैधव्य ने जीवन को अधिक संघर्ष व चुनौती पूर्ण बना दिया। जीवन यापन के लिए उन्होंने विदेश, व देश में कई तरह की नौकरियां कीं। श्रीमती इन्दिरा गांधी के शासनकाल में उन्हें अवश्य कुछ आसानियां प्राप्त हुई। उन्हें अकादमियों का अध्यक्ष व कुछ संस्थाों का प्रमुख बनाया गया। लेकिन भारतीय कला की बहुमूल्य सेवा करने तथा विश्व के कई हिस्सों में उसके विशिष्ट गौरव का दर्शन कराने वाली उस बेजोड़ कलाकार को, पण्डित नेहरू जिनका बहुत सम्मान करते थे, बार-बार अनुरोध करने के बाद भी भारत सरकार एक सरकारी मकान नहीं दे सकी।
कामेश्वर से विवाह के बाद दोनों अपने धार्मिक विश्वासों पर क़ायम रहे। फिर भी धर्म उनके जीवन की गति में बाधा नहीं बन सका। उनकी एक मात्र पुत्री किरण तथा एक मात्र पुत्र पवन ने हिन्दू धर्म के विश्वासों से अधिक निकटता अनुभव की। जबकि ज़ोहरा नास्तिकता की ओर अग्रसर थीं। उन्होंने इच्छा प्रकट की थी कि उनके निधनोपरांत उनके शव को वि़द्युत शवदाह गृह में नज़्रे आतिश कर दिया जाये तथा कोई धार्मिक कर्म काण्ड न किया जाये। बावजूद इसके उनका संस्कार वैदिक तरीके़ से मंत्रोच्चार के बीच चिता पर हुआ। ये एक बेजोड़ दृढ़ता वाली बेमिसाल महिला का दुखद अवसान था। इतना संतोष अवश्य है कि जावेद अख़्तर व शबाना आजमी की उपास्थिति में वहां ‘‘ज़ोहरा सहगल लाल सलाम‘‘ के नारे अवश्य लगे। ‘‘अपनी वसीयत में मैंने लिखा है कि जब मैं मरूँ तो मैं नहीं चाहती कि तब किसी तरह का धार्मिक या कला से जुड़ा कार्यक्रम हो। अगर शव-दाह गृह के लोग मेरी राख रखने से मना करें तो मेरे बच्चे उसे मेरे घर लाकर टायलेट में बहा दें... इससे घिनौना कुछ नहीं हो सकता कि किसी मरे हुए आदमी का कोई हिस्सा शीशे के जार में रखकर सजाया गया हो‘‘। (‘आत्मकथा से‘)

उन्होंने न केवल अभिनय और नृत्य का उत्तेजक घटनापूर्ण इतिहास रचा बल्कि उसके विकास और विस्तार की अनन्य संभावनायें भी निर्मित कीं। अनेकानेक युवतियों को वर्जनायें तोड़ने एवं इस कला क्षेत्र से जुड़ने के लिए प्रेरित किया।

शकील सिद्दीक़ी, संपर्क-09839123525

Tuesday, August 12, 2014

बिहार इप्टा के राज्य सम्मेलन के लिए आयोजन समिति का गठन

परा: बिहार इप्टा का 15वां राज्य सम्मेलन आगामी 3 से 5 अप्रैल 2015 को छपरा में आयोजित किया जायेगा. जिसमें राज्य के लगभग 400 कलाकार प्रतिनिधि भाग लेंगे. इप्टा का यह आयोजन सारण के सांस्कृतिक परंपरा को मजबूत करेगा. उक्त बातें बिहार विधान परिषद के उपसभापति सह छपरा इप्टा के प्रधान संरक्षक सलीम परवेज़ ने राज्य सम्मेलन की तयारी के लिए रामजयपाल कॉलेज में आहूत बैठक में कही.

बैठक में बिहार इप्टा के महासचिव तनवीर अख्तर कहा कि सम्मेलन कि उद्घाटन के लिए शबाना आज़मी या राज बब्बर या गुलज़ार को आमंत्रित किया जायेगा. बैठक में सारण प्रमंडल में इप्टा इकाईओं के प्रतिनिधियों को लेकर एक स्वागत सह आयोजन समिति बनायीं गयी. प्रधान संरक्षक सलीम परवेज़ को स्वागताध्यक्ष, प्रो० वीरेंदर नारायण यादव को कार्यकारी अध्यक्ष, अमित रंजन को महासचिव एवं दिनेश कुमार पर्वत को कोषाध्यक्ष चुना गया.

बैठक की अध्यक्षता प्रो० (डॉ०) वीरेंद्र नारायण यादव ने की. बैठक में राज्य कार्यकारी अध्यक्ष सीताराम सिंह, महासचिव तनवीर अख्तर और सचिव फ़िरोज़ असरफ खान मुख्य रूप से उपस्थित थे. संचालन अमित रंजन ने की.

स्रोत :

Share on facebookShare on twitterShare on emailShare on printMore Sharing Services0

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें

Monday, August 11, 2014

गांधी शांति प्रतिष्ठान द्वारा पत्रकारिता एवं लेखन कार्यशाला

यी दिल्ली। गांधी शांति प्रतिष्ठान द्वारा दिनांक 05 सितंबर से 15 दिवसीय पत्रकारिता एवं लेखन कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। कार्यशाला का उद्घाटन व समापन सत्र सबके लिये खुला होगा। कार्यशाला संयोजक अभय प्रताप द्वारा इच्छुक प्रतिभागियों के लिये निम्न जानकारियां उपलब्ध करायी गयी हैं :

दिनांक  : 05 से 19 सितंबर, 2014

न्यूनतम योग्यता : स्नातक प्रथम वर्ष

समय : संध्या 5:30 से 7:30

पंजीकरण शुल्क : रु. 300/-

आमंत्रित वक्ता/लेखक-पत्रकार

कुलदीप नैयर, अच्युतानंद मिश्र, रामबहादुर राय, राजेश रपरिया, अरविंद मोहन, कमर वहीद नकवी, जवाहर लाल कौल, देवप्रिय अवस्थी, एन.के. सिंह, आनंद प्रधान, पुण्यप्रसून वाजपेयी, मंजरी सिन्हा, वर्षा दास, प्रताप सोमवंशी, सुधांशु श्रीवास्तव, अनिल चमड़िया, अकू श्रीवास्तव, अरुण कुमार त्रिपाठी, रवीश कुमार, प्रियदर्शन आदि।

नोट : प्रथम एवं अंतिम दिन अर्थात् उद्घाटन एवं समापन सत्र सबके लिए खुला होगा।

संरक्षक :

सुश्री राधा भट्ट (अध्यक्ष, गांधी शांति प्रतिष्ठान)

श्री अनुपम मिश्र, (संपादक, गांधी मार्ग)

आयोजक : गांधी शांति प्रतिष्ठान, दीनदयाल उपाध्याय मार्ग, नई दिल्ली
श्री सुरेन्द्र कुमार सचिव, गांधी शांति, प्रतिष्ठान

अभय प्रताप, कार्यशाला संयोजक, संपर्क मो.- 9717052865
प्रसून लतांत, सहयोगी, फोन : 23237491, 93

Friday, August 1, 2014

गोविन्दराम निर्मलकर : एक पारंपरिक आधुनिक भारतीय अभिनेता


दो महीने पहले की बात है : इप्टा डोंगरगढ़ के साथियों के साथ राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) के मोहारा ग्राम निवासी और कभी हबीब तनवीर के नया थियेटर के मुख्य अभिनेताओं में से एक रहे गोविन्दराम निर्मलकर का साक्षात्कार करना है। गोविन्दराम निर्मलकर अर्थात चरणदास चोर नाटक का चरणदास, पोंगा पंडित का पंडित, आगरा बाजार का ककड़ीवाला, लाला शोहरत बेग का शोहरत बेग, देख रहे हैं नैन का दीवान, मिट्टी की गाडी का नटी और मैत्रेय, मुद्राराक्षस में जीव सिद्धि, देख रहे हैं नैन का दीवान, कामदेव का अपना वसंत ऋतु का बाटम, गांव के नाम ससुरार मोर नाव दमाद का दमाद, जिन लाहौर नई देख्‍या वो जन्‍मई नई का अलीमा चायवाला, वेणीसंघारम का युधिष्ठिर सहित बहादुर कलारिन, शाजापुर की शांतिबाई, सोन सरार, जिन लाहौर नई वेख्‍या वो जन्‍म्या ई नई, कामदेव का अपना वसंत ऋतु का सपना और ना जाने कितने ही नाटकों के कितने पात्रों को जीवंत करनेवाला अभिनेता !

50 के दशक से भारतीय रंगमंच पर कार्यरत 85 वर्षीय निर्मलकर से मिलने का अर्थ है भारतीय रंगमंच के एक समृद्ध इतिहास और परम्परा से रु-ब-रु होना । निर्मलकर की रंगयात्रा महानगरीय और अकादमीक चकाचौंध से दूर, भारतीय रंगमंच और अभिनय पद्दति को समृद्दि प्रदान करती है । वे उस पीढ़ी के अभिनेताओं में से एक थे जिन्होंने बाहर से आयातित अभिनय शैलियों से इतर भारतीय पारंपरिक अभिनय शैली को बड़े शिद्दत के साथ रंग पटल पर स्थापित किया । उनकी रंगयात्रा छत्तीसगढ़ी पारंपरिक नाट्यशैली “नाचा” के जोकर से शुरू होकर हबीब तनवीर के नया थियेटर तक पहुंचती है और देश-विदेश में अपनी खुशबू फैलाती है । नाचा छत्तीसगढ़ की लोक शैली है, जिसे अमूमन निचली जाति के लोग ही करते हैं । भारत में जितनी भी लोक परम्पराएं या शैलियाँ हैं वह अमूमन निचली जाति के समपर्ण के कारण ही तो ज़िंदा हैं । ऊँची जाति और समाज के प्रतिष्ठित लोग या तो इन परम्पराओं को “नचनियां-बजानियाँ” मानते हैं या फिर इसका उपभोग मात्र करते हैं । वहीं अकादमिक और महानगरीय कलाकार इसे अमूमन देहाती, अनपढ़ और गवांरों की ही कला मानते हैं. जिस दिन हम थोपी हुई अभिनय सिद्धांतों के इत्तर रंगमंच की सच्ची भारतीयता की ओर अग्रसर होंगें उस दिन पृथवीराज कपूर, गोबिंदराम निर्मलकर, बाल गंधर्व, गिरीश घोष, गुलाब बाई, फ़िदा बाई, भिखारी ठाकुर, भुलवाराम यादव, सावित्री हैशनाम, रामचरण निर्मलकर, नथाराम गौड़, मास्टर फ़िदा हुसैन आदि के योगदान और महत्व को और अच्छे से समझ पाएंगें । वैसे भी कोई भी कला स्थानीय हुए बिना ग्लोबल नहीं हो सकती; यह तर्क सच के ज़्यादा करीब है । 

बहरहाल, हम मोहारा ग्राम पहुंचाते हैं और एक पान की दुकानवाले से निर्मलकर के घर का पता पूछते हैं । वो आगे की तरफ़ इशारा करके हमें उजले रंग के एक दुमंजिले मकान के पास जाने को कहता है । हम वहां पहुंचाते हैं तो दुमंजिले के ठीक सामने मिट्टी का एक खपरैल मकान होता है – यही है पद्मश्री, संगीत नाटक अकादमी समेत कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित और अपनी पूरी ज़िंदगी रंगमंच के प्रति समर्पित अभिनेता गोविन्दराम निर्मलकर का घर । चूने में नील मिलाकर पोते इस छोटे से घर की दीवारों पर मटमैली पड़ चुकी तस्वीरों के रूप में भारतीय रंगमंच का सुनहरा इतिहास टंगा पड़ा है और साथ ही लटके पड़े हैं भारत के राष्ट्रपति के हस्ताक्षर युक्त पद्मश्री समेत कई सम्मानों के प्रमाणपत्र । निर्मलकर हाथ में एक पतली सी लाठी लिए आते हैं. दुआ-सलाम के बाद बातों का सिलसिला चल पड़ता है. किसे पता था कि यह उनका आखिरी साक्षात्कार है ! (संपूर्ण  साक्षात्कार आप इप्टानामा मासिक के प्रवेशांक में पढ़ सकते हैं।- संपादक)

बहरहाल, 1950 का साल था । निर्मलकर लगभग 16 साल के थे । नाचा के दौरान ही हबीब तनवीर से इनकी मुलाक़ात होती है । आगरा बाज़ार नाटक के लिए निर्मलकर को अपने एक और साथी के साथ दिल्ली आने का निमंत्रण मिला तो वे असमंजस में पड़ जाते हैं । सवाल था कि रेल पर चढ़के परदेस जाएँ कि न जाएँ । आखिरकार दिल्ली पहुंचे । वहां शहरी अभिनेताओं के साथ यह दोनों अपने को बड़ा सहमा-सहमा महसूस करते हैं । अनपढ़ निर्मलकर ने सुन-सुन कर अपने संवाद जल्दी याद कर लिया । नाचा में इम्प्रोवाइजेशन के उस्ताद इन कलाकारों को एकदम तयशुदा काम करना ज़रा अखर सा रहा था । इधर शहरी अभिनेता अपने संवादों का रट्टा मार रहे थे । निर्मलकर बताते हैं कि “शहर वाले अभिनेता हमसे पूछते कि तुमलोगों ने कैसे याद तो हमने एकदिन मज़ाक किया कि हमलोग रात भर नहीं सोते बल्कि अपने संवाद याद करते रहते हैं । दरअसल वो लोग एक साथ कई जगह काम कर रहे थे और हम केवल एक । एक ही साधे सब साधे ।” फिर निर्मलकर आगरा बाज़ार के ककड़ीवाले का गीत गाने की कोशिश करते हैं पर शरीर अब साथ नहीं दे रहा. हबीब तनवीर छत्तीसगढ़ आ जाते हैं और नाचा के कलाकारों के साथ ही रम जाते हैं । 

इन अनपढ़ और देहाती माने-जाने वाले कलाकारों और हबीब तनवीर ने मिलकर भारतीय रंगमंच में क्या आयाम हासिल किया यह जग ज़ाहिर है । चलताऊ लहज़े में यदि कहें तो फर्श से अर्श तक की इस यात्रा में नैसर्गिक प्रतिभा के धनी निर्मलकर पल-पल हबीब तनवीर के साथ थे । निर्मलकर अपने और हबीब तनवीर के बारे में बहुत सी बातें करते हैं, बहुत से किस्से सुनाते हैं लेकिन वह सब फिर कभी । तत्काल केवल एक किस्सा – नया थियेटर पहली बार विदेश यात्रा पर जा रहा था। सबको हवाई जहाज़ से जाना है यह जानकार जैसे सांप सूंघ गया. लोग इस फिराक में थे कि किसी भी तरह यात्रा टल जाए. जाने के दिन घर से ऐसे विदा हुए जैसे यह आखिरी विदाई है। डरते हुए हवाई जहाज़ पर चढ़ा और विदेश पहुंचे तो कहीं खाने लायक कोई चीज़ ही न मिले. जो था वो खाने की आदत नहीं थी या दर भी था कि पता नहीं इसमें क्या चीज़ मिला हो। दल के कुछ लोगों ने तो खाना-पीना छोड़ ही दिया था और खाया भी तो फल या दूध। बाद में जब ऐसी यात्राएं लगातार होने लगीं तो धीरे-धीरे सबको आदत सी हो गई।

आज निर्मलकर की अभावग्रस्त ज़िंदगी को देखते हुए उनको दिए गए सारे सम्मान बेमानी से लगते हैं । क्या सम्मान का एक कागज़ भर दे देने से सरकार और समाज का काम खत्म नहीं हो जाता ? पूरी ज़िंदगी रंगमंच की सेवा करने के बाद भी निर्मलकर जैसे कलाकार फकीर के फकीर ही बने रहते हैं तो यह सम्मान क्या कागज़ के एक टुकड़े मात्र में नहीं बदल जाता ? यह कौन नहीं जानता कि आज रंगमंच के ठेकेदार लोग कैसे सरकारी पैसों से कैसे अपनी और अपने चमचों की जेबें भर रहे हैं वहीं निर्मलकर सरकार की ओर से मिलने वाली 1500 की पेंशन के सहारे ही इलाज और घर का खर्च चलाने को अभिशप्त थे ! बुढ़ापे के दिनों में लकवाग्रस्त शरीर लेकर उन्‍होंने अपने स्‍वास्‍थ्‍य और आर्थिक समस्याओं के मार्फ़त राज्‍यपाल, मुख्‍यमंत्री और छत्तीसगढ़ के संस्कृति मंत्री तक के से गुहार लगाई किन्तु प्रजातंत्र के कानफाडू शोर में एक निचली जाति के लोक कलाकार सुनने की फुर्सत किसी के पास नहीं है ! आखिरकार इन्होने तय कर लिया कि पद्मश्री लौटा देना है । निर्मलकर कहते हैं “जो सम्मान न मेरे काम आ रही है, न मेरी कला के उसे धारण करने से क्या लाभ !” 

राज्य सरकार को लगा कि किरकिरी हो जाएगी तो जैसे तैसे मामले को निपटा भर दिया गया । एक तरफ़ जहाँ अनुदान की राशि का बंदरबांट मचा है वहीं नाचा की दुर्गति से परेशान निर्मलकर नाचा के लिए कुछ करना चाह रहे थे तो सरकार अनुदान देने को तैयार नहीं होती । निर्मलकर कहते हैं- “पद्मश्री के बाद कई लोगों ने मान लिया कि मुझे सरकार की ओर से सम्मान के साथ-साथ लाखों रुपये भी मिले होंगे । जबकि सच्चाई यह है कि इस सम्मान पत्र के अलावा मुझे सरकार से एक धेला तक नहीं मिला । मैं चाहता था कि नाचा को मैं नई पीढ़ी को सौंप दूं, लेकिन अब अफसोस के साथ मुझे इस दुनिया से अलविदा करना होगा ।” श्‍याम बेनेगल द्वारा निर्देशित फिल्म चरणदास चोर में अभिनय कर चुके निर्मलकर का मन अब अपने किये नाटकों की सीडी देखने को करता है लेकिन उनके पास न ढंग की सुविधा है और ना ही अपने किसी भी नाटक की रिकॉडिंग । नया थियेटर रिकॉडिंग देने को कहता है लेकिन देता नहीं । वैसे भी हबीब तनवीर के देहांत के बाद नया थियेटर अपने पुराने कलाकारों को जैसे भूल सा ही गया है । 

सवाल तो बहुत सारे हैं पर किससे करें ? उस समाज से जिसे केवल कलाकार की कला का रस लेना आता है, ज़िम्मेदारी नहीं ? यदि निर्मलकर किसी कॉरपोरेट के बनाए नकली और सामानबेचू नायक या नेता होते तो क्या उनकी हालत ऐसी ही होती ? परंपरागत भारतीय रंग शैली को पल-पल अपनी सांसों में बसाए गोविन्दराम निर्मलकर एक आधुनिक कलाकार थे जिन्होंने लगभग पन्द्रह दिनों आंबेडकर अस्पताल में लकवे और मस्तिष्क की फटी नशों से संघर्ष करने के बाद आखिरकार इस नाशुक्रे संसार को अलविदा कर ही दिया । निर्मलकर, अब इस दुनियां में नहीं हैं । जीते जी वो जैसे भी रहे मरने के बाद “राजकीय सम्मान” दिया ही जायेगा – निर्मलकर चाहें न चाहें उनकी मर्ज़ी यहाँ भी नहीं चलेगी । निर्मलकर यदि महानगरीय अभिनेता होते तो देश के कई शहरों में अब तक शोक सभाओं का आयोजन हो गया होता और लोग फूल माला से इनकी तस्वीरों को लाद देते लेकिन -- जब तक कलाकार और समाज अपने असली नायकों का जिम्मेदारीपूर्वक सम्मान करना नहीं सीखता तब तक सब ऐसे ही चलेगा । यह सब दुखद तो है ही अफसोसजनक भी है !!!